2022 यूपी चुनाव में 120 भोजीपुरा विधानसभा में एकतरफा नजर आने वाला समीकरण अब सभी दलों के लिए मुश्किल कड़ी किये हुए है भाजपा ने जिस तरह से पहिली लिस्ट में बरेली के 7 उम्मीदवार घोषित किये थे हुए भोजीपुरा और बहेड़ी को होल्ड पर रखा था चर्चा आम थी की प्रत्याशी बदले जायेंगे लेकिन नहीं बदले गए जबकि भोजीपुरा विधानसभा के बड़ी संख्या में प्रधान और बीडीसी मेंबर ने भाजपा से टिकट बदलने की मांग की थी, मगर उनकी बात को अनसुना कर दिया.
दूसरी तरफ पिछले 4 साल से भोजीपुरा में विधायक के चुनाव की तैयारी कर रहे योगेश पटेल का टिकट जब भाजपा से नहीं हुआ तो योगेश पटेल ने जिला पंचायत सदस्य और प्रधानों के साथ बैठक अपने समर्थको के दबाब में योगेश पटेल में बसपा का दामन थाम लिया और अब वही योगेश पटेल सभी प्रमुख दलों के लिए चिंता का सबक बने हुए है

कारण वह लगातार तीसरी बार ब्लाक प्रमुख हैं , यहां बसपा ने कुर्मी कार्ड खेलकर भाजपा-सपा के खेमे में हलचल मचा दी है बात भाजपा से हो तो भाजपा को अपने उम्मीदबार के सजातीय वोट के सहारे ही रहना पड़ेगा उसमे भी सभी दल सेंधमारी कर रहे है और सपा प्रत्याशी अपने मुस्लिम वोटर्स पर भरोसा कर रहे है कांग्रेस के उम्मीदवार का कोई अता पता नहीं है ऐसे में केवल योगेश पटेल ही एकमात्र ऐसे नेता बचते है जिन्हे बसपा का कोर दलित वोटर्स ,मुस्लिम वोटर्स और साथ ही सजातीय वोटर्स का साथ मिलेगा दूसरी तरफ ब्लाक प्रमुख और ग्राम पंचायत प्रधानों से भी योगेश पटेल को मदद मिल रही है , योगेश पटेल के चुनावी प्रबंधन ने सभी को पीछे कर रखा है खासकर योगेश पटेल की आईटी और सोशल मीडिया टीम भी दिन रात एक करकर उन्हें जिताने में लगे है सबसे बड़ी बात योगेश पटेल भाजपा में रह चुके है और भाजपा के हर चुनावी दांव- पेच को जानते है ऐसे में योगेश पटेल सभी दलों के उम्मीदवारो के लिए मुसीबत बनते जा रहे है अब भोजीपुरा का चुनाव एकतरफा न होकर त्रिकोणीय हो चुका है जिसमे किसी भी पार्टी को योगेश पटेल से पार पाना आसान नहीं होगा /

By Anurag

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *