साहू राम स्वरूप महिला महाविद्यालय में एनएसएस ,एनसीसी ,रोवर रेंजर्स प्रभारी द्वारा एनवायरमेंट सेंसिबिलिटी सेल मे वैल्यू ऑफ वेस्ट विषय पर कार्यशाला का आयोजन किया गया । जिसमें मुख्य वक्ता आशीष कुमार चौहान सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट एक्सपर्ट ने अपने वक्तव्य में कचरा प्रबंधन के बारे में विस्तार से बताया उन्होंने बताया किस प्रकार से हम कचरे को अलग-अलग करके उसमें वैल्यू ऐड कर सकते हैं। कचरे को अलग अलग करके विभिन्न प्रकार के कार्यों में लिया जा सकता है जैसे गीले कूड़े से जैविक खाद बनाई जा सकती है। प्लास्टिक की बोतलों ,स्टेशनरी वेस्ट, सुखा कूड़ा ,गीला कूड़ा आदि को अलग करके रखना चाहिए। सिंगल यूज प्लास्टिक का प्रयोग नहीं करना चाहिए।
सब्जी, किराना आदि दुकानों पर मिलने वाले 75 माइक्रोन से कम के कैरी बैग ज्यादा खतरनाक होती हैं, क्योंकि इन्हें रीसाइकल करना काफी कॉस्टली होता है।

प्राचार्य डॉ अनुपमा मल्होत्रा ने छात्राओं को वेस्ट को वेल्थ की तरीके से बनाया जाने पर प्रभावशाली ढंग से अपने विचार व्यक्त किए।नगर निगम द्वारा महाविद्यालय में रखे गए नगर निगम के कम्युनिटी कंपोस्टर मे किस प्रकार के जैविक खाद बनाई जाए इस प्रक्रिया को आशीष चौहान द्वारा बताया गया ।
कार्यक्रम के आयोजन में एनवायरनमेंट सेंसिबिलिटी सेल की डॉ प्रतिभा पांडे, डॉ प्रीति सिंह, डॉ प्रीति वर्मा ,डॉ रीना टंडन ने भरपूर सहयोग दिया। कार्यक्रम में महाविद्यालय की सभी वरिष्ठ शिक्षिकाऐ डॉ कनक लता ,डॉ प्रीति पाठक , डॉ ज्योति शर्मा, डॉ सीमा सक्सेना , डॉ प्रतिमा सिंह, डॉ अनीता आदि उपस्थित रही ।

By Anurag

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *