बरेली – यूं तो समाज सेवा कार्यों हेतु कई लोग तरह तरह से अपना योगदान निभा रहे हैं, परंतु किसी दूसरे की पीड़ा को खुद महसूस कर उसका समाधान करना आज एक बहुत बड़ा गुनाह हो गया है, जिसका जीता जागता उदाहरण सनसिटी कॉलोनी में निर्माण की हुई सड़क को नगर निगम द्वारा ध्वस्त किया जाना है। सनसिटी कॉलोनी की निवासी एवं यहीं पर अपना क्लीनिक चला रही डॉक्टर कविता पांडे ने अनगिनत बार राहगीरों को अपने निवास स्थान के सामने खुली हुई सड़क पर गिरते हुए व चोट खाते हुए देखा है, जिसकी वजह से उनका हृदय दुखित रहा। कॉलोनी की सोसाइटी के माध्यम से कई बार नगर निगम व कॉलोनी के पार्षद से इसके बारे में लिखित शिकायत की गई थी तथा कई बार बजट पास होने के बावजूद भी इस सड़क का निर्माण कभी भी पूरा नहीं हो सका ! थक हार कर डॉ कविता पांडे जी ने अपनी धनराशि द्वारा इस सड़क निर्माण करा दिया। डॉ कविता पांडे एक डॉक्टर होने के साथ साथ समाज के कार्यों में भी निस्वार्थ लगी रहती हैं। परंतु नगर निगम को यह नागवार गुजरा और डॉ कविता पांडेय द्वारा निर्माण करायी गयी सड़क को उखाड़ दिया गया। इस कार्य को नगर निगम के सहायक अभियंता मुकेश शाक्य, अवर अभियंता वीना मौर्या सहित प्रवर्तन दल के साथियों ने आचार संहिता के लागू होने के ठीक एक दिन पहले किया । डॉ कविता पांडेय के पुत्र अभिलाष पांडेय ने कहा कि नगर निगम ने सड़क को उखाड़ने का कार्य बिना किसी सूचना के किया है एवं इस उखड़ी हुई सड़क से हुए गड्ढों से एक ओर जहां फिर राहगीरों के गिरने व चोट लगने का डर उत्पन्न हो गया है बही दूसरी ओर बरसात के इस समय इन गड्ढों में जलभराव से डेंगू जैसी भयंकर बिमारियों की समस्या भी उत्पन्न हो गयी है। उन्होने नगर निगम से शीघ्र इस सड़क का पुन: निर्माण कराने की अपील भी की । उन्होने कहा कि नगर निगम द्वारा किया गया यह कृत्य निन्दनीय है। इस तरह कभी भी कोई भी समाज हित में कुछ भी कार्य करने के लिए आगे नही आयेगा एवं समाजसेवीयों को प्रेरित करने की जगह नगर निगम ने हतोत्साहित करने का कार्य किया है।

By Anurag

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *