बरेली – भगवान तिरूपति वेंकटेश्वर मंदिर का स्वर्ण जयंती समारोह में भगवान तिरूपति वेंकटेश्वर को भक्तों ने पहले मंदिर परिसर में पालकी में इसके बाद में मंदिर में ही झूले पर झुलाया।
इस अवसर पर पूर्व केंद्रीय मंत्री सांसद संतोष कुमार गंगवार, मेयर उमेश गौतम, पूर्व एम एल सी डा ए पी सिंह, अनिल कुमार, गुलशन आनंद भी शामिल हुए। पटेल नगर स्थित भगवान वेंकेटश्वर मंदिर में रविवार को 52वें वार्षिक समारोह में कोविड काल के बाद भाग लेने के लिए भक्त भारी संख्या में शहर के विभिन्न इलाकों से उमड़ पड़े। मंदिर में पूजा पाठ कराने के लिए दक्षिण भारत के दो प्रकांड पंडित श्री रंगनाथ आचार्य ने सभी धार्मिक अनुष्ठान विधि विधान से कराकर विश्व कल्याण की प्रार्थना की है।


मंदिर के संचालक राजेश सिंह उर्फ विपुल सिंह ने बताया कि भगवान वेंकटेशवर का यह पश्चिमी उत्तर प्रदेश में यह अकेला मंदिर बरेली में है। इसकी स्थापना वर्ष 1970 में ज्येष्ठ शुक्ल त्रयोदशी के दिन की गई। इसलिए इस बार 52वें वार्षिकोत्सव को स्वर्ण जयंती के रूप में मनाया जा रहा है।
वेंकटेश्वर मंदिर मे पूजा का कार्यक्रम सुबह छ बजे शुरू हुआ जब सुप्रभातम् मंत्रोच्चार के जरिये देव प्रतिमाओ को जगाया गया। इसके बाद पुजारियो ने सभी देव प्रतिमाओ को घी, दही, शहद और गंगाजल आदि से स्नान कराया। सभी देव प्रतिमाओ का श्रृंगार किया गया। मंदिर में भगवान बेंकटेश्वर की मुख्य प्रतिमा के समक्ष यज्ञ कर विश्व कल्याण और भक्तो की मनोकामनाओ की पूर्ति की प्रार्थना की गई। इसके बाद मंदिर में पूजा , अर्चना और आरती के आयोजनो के बाद प्रसाद वितरण किया गया।


सायंकालीन सत्र कल्याणम् पूजा के साथ शुरू किया गया। इस धार्मिक आयोजन मे भगवान वेंकटेश्वर का विवाह श्रीदेवी और भूदेवी से कराया जाता है। पंडित रंगनाथ आचार्य ने बताया कि इस अनुष्ठान को देखने मात्र से भक्तो के पिछले जन्मों के पापों से भी मुक्ति मिल जाती है। यह पूजा मोक्षदायिनी मानी जाती है। कल्याणोत्सव के बाद भगवान वेंकटेश्वर, श्रीदेवी और भूदेवी की प्रतिमाओं को पालकी में सजा कर मंदिर परिसर में यात्रा निकाली गई। बाद मे इन देव प्रतिमाओ को झूले मे रखकर झुलाकर भगवान का आशीर्वाद प्राप्त किया। सांयकालीन पूजा में पूर्व केंद्रीय मंत्री संतोष कुमार गंगवार, महापौर उमेश गौतम, वरिष्ठ भाजपा नेता गुलशन आनंद, अनिल कुमार एडवोकेट, शशि सक्सेना, शंकर दास, निर्भय सक्सेना, विकास सक्सेना, एस के त्यागी, अरोड़ा जी, आर ए शर्मा विशाल मेहरोत्रा सहित कई गणमान्य लोग उपस्थित थे।
बरेली के वेंकटेश्वर मंदिर के पुजारी मध्यम कुमार पाण्डेय ने बताया कि बरेली के इस मंदिर का वास्तु शिल्प भी दक्षिण शेली का है। मंदिर में भगवान वेंकटेश्वर के अलावा श्री गणपति, अण्डाल देवी , पद्मावती देवी, दुर्गा माता, राधा कृष्ण, भोलेनाथ , बजरंगबली, शनि देवता के मंदिर भी इसी मंदिर परिसर के अंदर बने हैं।

निर्भय सक्सेना

By Anurag

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *