कांग्रेस के नेता को हजम नहीं हो रहे दलित प्रवक्ता
2022 के विधान सभा चुनाव में कांग्रेस की बुरी गत हुई बरेली में 9 विधानसभा सीटों में जिला अध्यक्ष के पसंद के उम्मीदवार उतारे गए कोई भी कैंडिडेट जमानत तक नहीं बचा सका
आज कांग्रेस के जिला कार्यालय पे समीक्षा बैठक बुलाई गयी जिसमे बरेली कांग्रेस के प्रवक्ता राजेंद्र सागर भी आये मगर किसी भी नेता ने उन्हें सम्मान नहीं दिया और उल्टा अपमान कर दिया इस पर प्रवक्ता राजेंद्र सागर के दिल की बात जबा पे आ गई राजेंद्र सागर ने कहा दलित होने के कारण उन्हें बोलने नहीं दिया जाता पूरे विधानसभा चुनाव में उन्हें मीडिया के काम से दूर रखा गया जबकि राजेंद्र सागर प्रदेश कांग्रेस की प्रवक्ता परीक्षा पास करके आये थे उनका मनोनयन प्रदेश अध्यक्ष ने किया था

ये बात जिले के दलालो की हजम नहीं हुई जिस कारण उन्हें मीडिया के कामो से दूर रखा गया जबकि इस मुश्किल चुनाव में 9 विधानसभा में कांग्रेस की सबसे अधिक वोट जिस बूथ से मिले वो राजेंद्र सागर का ही जाटवपुरा का बूथ था जिस पर कृष्णा कांत शर्मा को 147 वोट मिले थे यहाँ बताते चले की राजेंद्र सागर 2017 में अपनी गन्ना विभाग की नौकरी छोड़कर कांग्रेस से जुड़े कांग्रेस को मजबूत करने के लिए राजेंद्र सागर ने अपनी मोटर बाइक की एजेंसी भी दाव पे लगा दी मगर कांग्रेस के नेताओ ने हमेशा उनका अपमान किया जबकि दलित कोटे से राजेंद्र सागर ही एकमात्र कांग्रेस के बड़े पद के नेता है अब कोई भी उनके सवालो का जबाब देने को तैयार नहीं है की दलित होने के कारण उन्हें क्यों अपमानित किया जा रहा है और उन्हें क्यों जिला प्रवक्ता की जिम्मेवारी से दूर रखा जा रहा है उनके सवालो पे कांग्रेस के किसी भी बड़े नेता ने कोई संतोषजनक उत्त्तर नहीं दिया
बरहाल कांग्रेस के जिला प्रवक्ता राजेंद्र सागर ने जो इल्जाम जिले के नेताओ पे लगाए है उनकी गूज प्रदेश से होती हुई दिल्ली दरबार में जाएगी जिस पर कारवाही तय है और कई बड़े नेता इस लपेटे में आएंगे

By Anurag

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *